News Update :
Home » , , , » अबे तेरी... भाग यहाँ से मैं वो डॉक्टर नहीं हूँ जो तेरा इलाज कर पाए …

अबे तेरी... भाग यहाँ से मैं वो डॉक्टर नहीं हूँ जो तेरा इलाज कर पाए …

डॉक्टर : अब आपकी तबियत कैसी है?

मरीज : डॉक्टर साहेब.. पहले से ज्यादा ख़राब हो गयी है.

डॉक्टर : दवाई खाली थी क्या?

मरीज : नहीं डॉक्टर साहेब. दवाई की शीशी तो भरी हुई थी.

डॉक्टर : अरे... मेरे कहने का
मतलब है की, दवाई ले ली थी क्या.

मरीज : जी, आपने दवाई दे दी थी और मैंने ले ली थी.

डॉक्टर : अबे, दवाई पीली थी क्या?

मरीज : ओहो, नहीं डॉक्टर साहेब दवाई तो लाल थी.

डॉक्टर : अबे गधे, दवाई को पीलिया था क्या?

मरीज : नहीं. डॉक्टर, पीलिया तो मुझे था.

डॉक्टर : अबे तेरी तो, दवाई को मुह लगाकर पेट में डाला था की नहीं?

मरीज : नहीं डॉक्टर साहेब.

डॉक्टर : क्यों?

मरीज : क्योंकि ढक्कन बंद था.

डॉक्टर : तेरी तो साले, तो खोला क्यों नहीं.

मरीज : साहेब, आपने ही तो कहा था की, शीशी का ढक्कन बंद रखना..

डॉक्टर : तेरा इलाज मैं नहीं कर सकता!

मरीज : अच्छा डॉक्टर साहेब ये तो बता दो की मैं ठीक कैसे होऊंगा

डॉक्टर : अबे तेरी... भाग यहाँ से मैं वो डॉक्टर नहीं हूँ जो तेरा इलाज कर पाए
Share this article :
 
Company Info | Contact Us | Privacy policy | Term of use | Widget | Advertise with Us | Site map
Copyright © 2011. लतीफे . All Rights Reserved.